Advertisement

Heart attack से बचने के 10 उपाय

अपने कोलेस्ट्रोल स्तर को 130 एमजी-डीएल तक रखिए :  कोलेस्ट्रोल के मुख्य स्रोत जीव उत्पाद है , जिनसे जितना अधिक हो , बचने की कोशिश करनी चाहिए । अगर आपको युक्त यानी लीवर में अतिरिक्त कोलेस्ट्रोल घटाने वाली दवाओं का सेवन करना पडा सकता है ।
अपना सारा भोजन बगैर तेल के बनाएं , लेकिन मसाले का प्रयोग बंद नहीं : मसाले हमें भोजन का स्वाद देते है , न की तेल का । हमारे ' जीरो आयल ' भोजन निर्माण विधि का प्रयोग करें और हजारों हजार जीरो आयल भोजन स्वाद के साथ समझोता किए बगैर तैयार करें । तेल ट्रिगलीराइडस होते है और रक्त स्तर 130 एमजी-डीएल के नीचे रखा जाना चाहिए ।
अपने तनावों को लगभग 50 प्रतिशत तक कम करें :  इससे आपको ह्रदय रोग को रोकने में मदद मिलेगी , क्योंकि मनोवेग्नानीक तनाव ह्रदय की बीमारियों की मुख्य वजह है । इससे आपको बेह्तार जीवन स्तर बनाए रखने में भी मदद मिलेगी ।
हमेशा ही रक्त दबाव को 120-80 एमएम एचजी के आस – पास रखे : बढ़ा हुआ रक्त दबाव विशेष रूप से 130-90 से ऊपर ब्लांकेज को दुगुनी  रफ्तार से बढ़ाएगा । तनाव में कमी , ध्यान , नमक में कमी तथा यहाँ तक की हल्की दवाएं लेकर भी एअक्त दबाव को कम करना चाहिए ।
अपने वजन को सामान्य रखे :  आपका बाडी मॉस इंडेक्स 25 से नीचे रहना चाहिए । इसकी गणना आप अपने किलोग्राम वजन को मीटर में अपने कद के स्केयर के साथ घटाकर कर सकते है । तेल नहीं खाकर एवं निम्न रेशो वाले अनाजों तथा उब किस्म के सलादों के सेवन द्वारा आप अपने वजन को नियंत्रित कर सकते है ।
नियमित रूप से आधे घंटे तक टहलना जरूरी :  टहलने की स्फ्तार इतनी होनी चाहिए , जिससे सीने में दर्द नहीं हो ओर हांफे भी नहीं । यह आपके अछे कोलेस्ट्रोल को बढाने में आपकी मदद कर सकता है ।
15 मिनट तक ध्यान और हलके योगा व्यायाम रोज करें :  यह आपके तनाव तथा रक्त दबाव को कम करेगा । आपको ह्रदय रोग को कम नियंत्रित करने में मददगार साबित होगा ।
भोजन में रेशे और एंटी आक्सीदेट्स : भोजन में अधिक सलाद , सब्जियों तथा फलों का प्रयोग करें । ये आपको भोजन में रेशे और एंटी आक्सीदेट्स के स्रोत है और एचडीएल  या गुड कोलेस्ट्रोल को बढाने में सहायक होते है ।
अगर आप मधुमेह से पीड़ित है , तो शक्कर को नियंत्रित रखे : ब्लड शुगर 100 एमजी डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140  एमजी-डीएल से नीचे होना चाहिए । व्यायाम , वजन में कमी , भोजन में अधिक  रेशा लेकर तथा मीठे भोज्य पदार्थों से बचते हुए अधुमेह को खतरनाक न बनने  दें । अगर आवश्यक हो , तो हल्की दवाओं के सेवन से फायदा पहुँच सकता है ।
हार्ट अटैक से पूरी तरह बचाव :  हार्ट अटैक से बचने का सबसे आसान सन्देश है और हार्ट में अधिक रूकवाटे न होने दें । यदि आप इन्हें घटा सकते है , तो हार्ट अटैक कभी नहीं होगा ।
दिल के रोगों के लिए लाभकारी सब्जियां  :

हमारे भोजन में अनेक ऐसी सब्जिया है , जिन्हें प्रतिदिन प्रयोग करके हार्ट की सभी बीमारियों से बचा जा सकता है । ये है -

प्याज -  इसका प्रयोग सलाद के रूप में कर सकती है । इसके प्रयोग से रक्त का प्रवाह ठीक रहता है । कमजोर ह्रदय होने पर जिनको घबराहट होती है या ह्रदय की धड़कन बढ़ जाती है , उनके लिए प्याज बहुत ही लाभादारक है।

टमाटर -  इसमें विटामिन सी , बीताकेरोटिन , लाइकोपीन , विटामिन एक व पोटेशियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है , जिससे दिल की बीमारी का ख़तरा कम हो जाता है ।

लोकी -  इसे घिया भी कहते है । इसके प्रयोग से कोलेस्ट्रोल का स्तर सामान्य अवस्था में आना शुरू हो जाता है । ताजी लोकी का रस निकालकर पोदीना पत्ती – 4 व तुलसी के 2 पत्ते डालकर दिन में दो बार पीना चाहिए ।

लहसुन - भोजन में इसका प्रयोग करें । खाली पेट सुबह के समय दो कलियाँ पानी के साथ भी निगलने से फायदा मिलता है ।

गाजर -  बड़ी हुई धड़कन को कम करने के लिए गाजर बहुत ही लाभदायक है । गाजर का रस पिएँ , सब्जी खाए व सलाद के रूप में प्रयोग करें ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ